Swadesh Darshan Scheme

By | 6th April 2020
Swadesh Darshan Scheme

भारत की समृद्ध सांस्कृतिक, ऐतिहासिक, धार्मिक और प्राकृतिक विरासत देश में पर्यटन और रोजगार के विकास को एक विशाल क्षमता प्रदान करती है।

ऐसे स्थानों पर जाने के लिए विशेष रुचि रखने वाले पर्यटकों को आकर्षित करने के लिए विशिष्ट विषयों पर पर्यटक सर्किट विकसित करने की बहुत आवश्यकता है |

यह राष्ट्रीय और अंतर्राष्ट्रीय पर्यटकों के लिए आकर्षक अनुभव प्रदान करके एक एकीकृत दृष्टिकोण के माध्यम से ही प्राप्त किया जा सकता है।

थीम आधारित टूरिस्ट सर्किट (Tourist Circuit) को ऐसे तरीके से विकसित किया जाना चाहिए जो समुदायों का समर्थन करता है , पर्यावरण संबंधी चिंताओं को शामिल किए बिना रोजगार और सामाजिक एकीकरण को बढ़ावा देता है और पर्यटकों को अद्वितीय अनुभव प्रदान करता है।

इन सभी बिन्दुओ को ध्यान में रखते हुए पर्यटन मंत्रालय ने स्वदेश दर्शन स्कीम (Swadesh Darshan Scheme) शुरू की |

स्वदेश दर्शन स्कीम (Swadesh Darshan Scheme) एक केंद्रीय स्कीम है |

यह योजना थीम आधारित पर्यटन सर्किट विकसित करने के लिए शुरू की गयी है |

स्वदेश दर्शन स्कीम उद्देश्य (Swadesh Darshan Scheme Objectives)

  • पर्यटन को आर्थिक विकास और रोजगार सृजन के रूप में स्थान देना;
  • एक नियोजित और प्राथमिकता वाले तरीके से पर्यटक क्षमता वाले सर्किट विकसित करना;
  • पहचान किए गए क्षेत्रों में आजीविका उत्पन्न करने के लिए देश के सांस्कृतिक और विरासत मूल्य को बढ़ावा देना;
  • सर्किट / गंतव्यों में विश्व स्तर के बुनियादी ढांचे को विकसित करके पर्यटकों के आकर्षण को स्थायी तरीके से बढ़ाना;
  • समुदाय आधारित विकास और गरीब समर्थक पर्यटन दृष्टिकोण का पालन करना ;
  • आय के बढ़ते स्रोतों, बेहतर जीवन स्तर और क्षेत्र के समग्र विकास के संदर्भ में उनके लिए पर्यटन के महत्व के बारे में स्थानीय समुदायों के बीच जागरूकता पैदा करना;
  • स्थानीय समुदायों की सक्रिय भागीदारी के माध्यम से रोजगार का सृजन करना;
  • पर्यटन की क्षमता का रोजगार प्रदान करने एवं आर्थिक विकास में प्रभाव डालना;
  • उपलब्ध बुनियादी ढांचे, राष्ट्रीय संस्कृति और देश भर में प्रत्येक क्षेत्र के विशिष्ट मजबूत बिंदुओं के आधार पर संभावित और लाभों का पूरा उपयोग करना।
  • आगंतुक अनुभव / संतुष्टि को बढ़ाने के लिए पर्यटक सुविधा सेवाओं का विकास।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *